कैसे सचिन पायलट राजस्थान में करा सकते हैं बीजेपी की सत्ता में वापसी?

 BY- सलमान अली 

शनिवार यानी कि 11 जुलाई को राजस्थान के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने दावा किया कि भाजपा उनकी सरकार को गिराने की कोशिश कर रही है। इस दावे के बाद राज्य पुलिस ने भाजपा के दो सदस्यों को कथित रूप से कांग्रेस और स्वतंत्र सांसदों को पैसे की पेशकश के साथ खरीदने के लिए गिरफ्तार किया।

प्राथमिकी में पुलिस ने उल्लेख किया है कि फोनटैप ने दिखाया था कि मुख्यमंत्री और उप मुख्यमंत्री (सचिन पायलट) के बीच लड़ाई चल रही है। यह भी उल्लेख किया कि डिप्टी सीएम कहते हैं कि वह सीएम होंगे।

गहलोत और पायलट के बीच चल रहे झगड़े में कांग्रेस के नेतृत्व को लेकर ताजा बवाल मचा हुआ है। कुछ कांग्रेसी नेताओं ने मध्यप्रदेश में मुख्यमंत्री कमलनाथ की सरकार के नेतृत्व में ज्योतिरादित्य सिंधिया के बाहर निकलने के तरीके को याद करना शुरू कर दिया है। साथ ही राजस्थान में भाजपा की सत्ता में वापसी।

इसलिए अगर राजस्थान के उपमुख्यमंत्री सचिन पायलट अपने राज्य में एक ज्योतिरादित्य सिंधिया बनना चाहते हैं यानी अगर वह कांग्रेस छोड़ने और अशोक गहलोत सरकार को गिराने की योजना बना रहे हैं तो संख्या और राजनीति कैसे ढेर हो जाती जाएगी? आइए राजस्थान के आंकड़े पर बात करते हैं।

मध्य प्रदेश के विपरीत, राजस्थान में कांग्रेस की संयुक्त ताकत और भाजपा विपक्ष के बीच अंतर उतना पतला नहीं है। संख्याओं का परीक्षण सिर्फ एक महीने पहले किया गया था जब राज्यसभा चुनाव हुए थे। कांग्रेस के दो उम्मीदवारों को तब 200 वोटों में से 123 प्राप्त हुए थे।

कांग्रेस के पास 107 विधायक हैं और सभी 13 निर्दलीय विधायकों का समर्थन प्राप्त है। यही नहीं भारतीय जनजातीय पार्टी के 2 विधायकों और रालोद में से एक का भी समर्थन है। यदि सीपीएम के दो विधायकों के समर्थन में कोई संकट की स्थिति नहीं बनती तो टैली को 125 तक जाएगी।

राज्यसभा चुनाव में इसे दो कम वोट (123) मिले क्योंकि एक मंत्री और सीपीएम के एक विधायक अपने स्वास्थ्य के कारण वोट नहीं दे सके।

दूसरी ओर भाजपा को राज्यसभा चुनाव में 74 वोट मिले। इसके पास अपने दम पर 72 विधायक हैं  और हनुमान बेनीवाल की अगुवाई वाली राष्ट्रीय लोकतांत्रिक पार्टी के तीन विधायकों का समर्थन है। एक वोट अयोग्य करार दिया गया था।

मध्य प्रदेश के विपरीत अधिकांश निर्दलीय मुख्यमंत्री गहलोत के करीबी हैं। उनमें से कई कांग्रेस के बागी थे। 2014 से सचिन पायलट के प्रदेश कांग्रेस कमेटी अध्यक्ष होने के बावजूद गहलोत का 2018 में होने वाले विधानसभा चुनावों के टिकटों के वितरण में ऊपरी हाथ था। कांग्रेस के लगभग 75 फीसदी विधायक उनके प्रति वफादार कहे जाते हैं।

यह भी पढ़ें: अमित शाह ने वर्चुअल रैली भी कर ली और बिहार चुनाव से न जोड़ने की बात भी कह दी

दूसरी ओर पायलट गुट का दावा है कि उसे कम से कम 50 प्रतिशत विधायकों का समर्थन प्राप्त है।

राजस्थान में भाजपा भी विभाजित घर की तरह नहीं है?

शायद यही राजस्थान और मध्य प्रदेश के बीच महत्वपूर्ण अंतर है। मुख्यमंत्री का पद पायलट और गहलोत के बीच की खींचतान के बीच है। सवाल यह है कि अगर पायलट कांग्रेस छोड़ कर भाजपा में शामिल हो जाते, तो क्या वह मुख्यमंत्री पद से कम पर कुछ तय करते जब वह पहले से ही उपमुख्यमंत्री हैं?

दूसरी ओर सिंधिया मुख्यमंत्री पद की मांग नहीं कर रहे थे जिससे भाजपा के लिए चीजें आसान हो गईं क्योंकि कांग्रेस में विद्रोह ने शिवराज सिंह चौहान की मुख्यमंत्री की वापसी का मार्ग प्रशस्त किया।

लेकिन राजस्थान में भाजपा की पूर्व मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे और भाजपा नेतृत्व का एक बड़ा वर्ग पायलट को मुख्यमंत्री के रूप में स्वीकार नहीं करेगा। पार्टी अभी भी कांग्रेस के घटनाक्रम को करीब से देख रही है।

क्या पायलट कांग्रेस को नहीं तोड़ सकते और विधायकों के साथ-साथ उनके प्रति वफादार रह सकते हैं?

दलबदल विरोधी कानून से बचने के लिए, कांग्रेस के दो-तिहाई विधायकों को पार्टी छोड़नी होगी। यह एक बहुत बड़ी संख्या है। इसके लिए कांग्रेस के 107 विधायकों में से 72 को अपने पाले में लाना होगा।

दूसरा विकल्प मध्य प्रदेश मॉडल है- जिसका अर्थ है कि पायलट के प्रति वफादार विधायकों को इस्तीफा देना होगा ताकि सदन की ताकत कम हो। फिर उन्हें भाजपा में शामिल होना होगा और सदन में रिक्त पदों को भरने के लिए भाजपा के टिकट पर उपचुनाव लड़ना होगा।

लेकिन चूंकि कांग्रेस (125) और भाजपा (75) की संयुक्त ताकत के बीच का अंतर काफी बड़ा (50) है इसलिए बड़ी संख्या में विधायकों को आधे रास्ते से नीचे लाने के लिए इस्तीफा देना होगा।

पायलट बनाम गहलोत संघर्ष की जड़ें क्या हैं?

जनवरी 2014 में गहलोत के नेतृत्व में कांग्रेस को राज्य में सबसे बुरी तरह से हार का सामना करने के बाद पायलट को राजस्थान कांग्रेस का प्रभार दिया गया था। कांग्रेस ने पीढ़ीगत राजनीति को बदलने के संकेत दिए थे। इस स्थिति में पायलट को मुख्यमंत्री बनाना था यदि पार्टी सत्ता में आती लेकिन ऐसा नहीं हुआ।उधर  टीम राहुल गांधी में पायलट की भी गिनती की जाती थी लेकिन वह भी काम न आ सका।

गहलोत लंबे समय से राजस्थान में कांग्रेस के प्रमुख रहे हैं। वह 1998 में पहली बार मुख्यमंत्री बने थे जब वह सिर्फ 47 साल के थे। वह पीसीसी अध्यक्ष थे और भैरोसिंह शेखावत के भाजपा को पराजित करने वाले कांग्रेस के अभियान की अगुवाई की थी जो 1990 के बाद से सत्ता में थे (एक साल के राष्ट्रपति शासन को रोक दिया था बाबरी मस्जिद के विध्वंस के बाद) और कांग्रेस को वापस सत्ता में लाये। गहलोत ने तब से मुख्यमंत्री के रूप में भाजपा की वसुंधरा राजे के साथ बारी-बारी से काम किया है।

कांग्रेस के आलाकमान ने गहलोत और पायलट के बीच झगड़े के बाद गहलोत को मुख्यमंत्रित्व काल में तीसरा शॉट देने का फैसला किया जिसके बाद लोकसभा चुनाव हुए।

दोनों नेता तब से ही एक-दूसरे से इतर चल रहे हैं। कई मौकों पर एक-दूसरे का नाम लिए बिना एक-दूसरे के खिलाफ टिप्पणियां की हैं।

About Admin

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *