आजादी का अमृत वर्ष खत्म होने के करीब है और गोडसे जी के साथ न्याय करने की किसी को याद तक नहीं आयी!

व्यंग्य : राजेन्द्र शर्मा

अब भी नहीं तो कब? गोडसे जी के साथ न्याय कब होगा? अब तो करीब-करीब राम राज्य भी आ चुका है। सिर्फ राम राज्य ही नहीं, काफी हद तक कृष्ण राज्य और शिव राज्य भी, जिसे कृपया एमपी वाले शिवराज जी के राज से कोई कन्फ्यूज न करे।

और इतना ही नहीं ताजमहल, कुतुब मीनार, जामा मस्जिद, अजमेर शरीफ, भोजशाला आदि-आदि से जो-जो देवी-देवता निकलेंगे, और देर से नहीं जल्दी ही निकलेंगे, थोड़ा-थोड़ा उनका भी राज आ लिया है।

उधर अडानी जी और अंबानी जी का भी राज आ ही लिया है, तभी तो सिर्फ भारत में ही नहीं, एशिया भर में नंबर वन हैं। पर गोडसे जी के साथ न्याय नहीं हुआ। हम पूछते हैं, अब भी नहीं तो कब। गोडसे जी के अच्छे दिन कब आएंगे। गोडसे जी का नंबर कब आएगा।

बताइए, आजादी का अमृत वर्ष खत्म होने के करीब है और मजाल है, गोडसे जी के साथ न्याय करने की किसी को याद आयी हो। मोदी-2.O में हेडगेवार जी दिल्ली से राज्यों की राजधानियों तक से होते हुए, स्कूलों में बच्चों की किताबों में पहुंच गए  हरियाणा से लेकर कर्नाटक तक।

कर्नाटक में तो बच्चों की किताबों में जगह की तंगी हुई तो, भगतसिंह को हटाकर हेडगेवार जी के लिए जगह बनायी गयी, पर उन्हें बाकायदा बैठाया गया। वैसे सुनते तो यह भी हैं कि एक हेडगेवार जी को बड़ा सा प्लाट देने के लिए, कर्नाटक में भगतसिंह के अलावा नारायण गुरु और पेरियार को भी हटा दिया गया है।

हरियाणा की किताबों में आरएसएस की राष्ट्रीय आंदोलन में महत्वपूर्ण भूमिका हो गयी है और नेहरू जी को देश के विभाजन के लिए जिम्मेदार बना दिया गया है। अंगरेजी राज से पांच-पांच बार माफियां मांगने और जीवन भर उससे पेंशन लेने के बाद भी, सावरकर पहले वीर हुए और आखिरकार उन्हें राष्ट्रीय आंदोलन का महान नायक बना दिया गया है।

और तो और, सैकड़ों सालों से लुप्त सरस्वती भी ट्यूबवैलों के सहारे हरियाणा में प्रकट हो गयी। अकबर तो अकबर, अशोक भी हिंदू विरोधी हो गया। पर गोडसे जी का नंबर नहीं आया। अब भी नहीं तो कब!

गोडसे जी के साथ इससे बड़ा अन्याय क्या होगा कि इधर हेगडगेवार और उधर सावरकर, दोनों राष्ट्रनायक हो गए, पर बेचारे गोडसे जी पचहत्तर साल बाद भी हिंदू महासभा के नायक के नायक ही बने रह गए।

नहीं बनाते राष्ट्रपिता, अगर नहीं बनाना था। नहीं लगाते संसद परिसर में मूर्ति, अगर नहीं लगानी थी। नहीं छापते नोटों पर तस्वीर। नहीं कहते वीर, अगर वीर का आसन सावरकर जी के लिए ही रिजर्व था। नहीं देते भारत रत्न, अगर नहीं देना था। चाहे उनके नाम पर सिक्के-विक्के भी जारी नहीं करते।

पर गोडसे जी को कम से कम हिंदू हृदय साम्राट तो बनाया जा सकता था। सम्मान का सम्मान और गैर-सरकारी का गैर-सरकारी। गांधी जी भी बहुत चीं-चीं नहीं करते और हिंदू राष्ट्र का गौरव भी बढ़ जाता। पर वह भी नहीं।

अकेले-अकेले बेचारे हिंदू महासभा वालों ने ही इसी महीने मनाया गोडसे जी का जन्म दिन, जबकि गांधी जी बाकी सब की छुट्टियों में कटौती के बावजूद, अकेले दो-दो राष्ट्रीय दिन घेरे बैठे हैं : जन्म दिवस भी, मृत्यु दिवस भी।

खैर! गोडसे जी का जन्म दिवस किसी सरकारी ईवेंट का मोहताज थोड़े ही है। मोदी जी के ट्वीट का भी नहीं। भारी मन से ही सही, पर हिंदू महासभा ने मेरठ में गोडसे जी का जन्म दिन भी मनाया और हिंदू विरोधी गांधीवाद को खत्म करने की शपथ भी ली।

और हां! उन्होंने इसका एलान भी किया कि भारत जल्द ही हिंदू राष्ट्र बन जाएगा। गोडसे जी के गांधी को खत्म करने के बाद भी, गांधीवाद को खत्म करने का कुछ काम बचता है, बस उसके पूरा होने की देर है!

पर क्या यह हमारे लगभग हिंदू राष्ट्र के निर्माताओं के लिए शर्म से डूब मरने की बात नहीं है कि गोडसे जी जैसे शहीद के चाहने वालों को इस तुच्छ सी मांग को लेकर लडऩा पड़ रहा है कि मेरठ शहर का नाम बदलकर, गोडसे नगर कर दिया जाए।

माना कि मेरठ नाम में प्रकटत: कोई मुस्लिमपना नहीं होने से, उसका नाम बदलने का न कोई प्रलोभन है और न सम्मोहन। पर क्या हिंदू-राष्ट्र की सेवा के लिए, एक गैर-मुस्लिम नाम भी नहीं बदला जा सकता?

आखिर, जब इतने सारे मुस्लिम नाम बदले जा रहे हैं, तो एक गैर-मुस्लिम नाम भी सही। कम से कम बाकी दुनिया को दिखाने को तो हो जाएगा कि नाम सिर्फ टोपी देखकर ही नहीं बदले गए हैं। राष्ट्र गौरव बढ़ाने की मैरिट के आधार पर, जरूरत पड़ी तो तिलक छाप टाइप के नाम भी बदले गए हैं। पर वह भी कहां?

हिंदू महासभा ने मेरठ का नाम बदलने का केंद्र सरकार को प्रस्ताव भेजा हुआ है और केंद्र सरकार इस मांग को भी दबाकर बैठी हुई है। मोदी जी ने क्या अपना ड्रोन नहीं भेजा था, गोडसे जी के जन्म दिन का ईवेंट कवर करने के लिए? इतने से फैसले में इतनी देर क्यों लग रही है, मिस्टर 56 इंची द नेशन वान्ट्स टु नो।

हम तो कहेंगे कि एक शहर गोडसे जी के नाम कराने जैसी छोटी चीज के लिए, उनके चाहने वालों को लगभग हिंदू राज के सामने भी हाथ फैलाना पड़े, यह नये इंडिया के लिए शर्म की बात है। और यह तो सवाल ही गलत है कि मेरठ ही क्यों?

स्वतंत्र भारत के पहले राष्ट्रीय शहीद, गोडसे जी के लिए एक शहर तो क्या पूरा देश भी कम है। वैसे देश का नहीं, तो कम से कम महाराष्ट्र का नाम बदलकर गोडसे जी के नाम पर रखने की तो अपेक्षा थी ही। लेकिन, वहां वैसा हिंदू राज ही नहीं है, जैसा योगी जी की यूपी में है, जहां मेरठ आता है।

मेरठ वैसे भी क्रांतिकारियों की धरती है। सो मेरठ से ही सही, भारत को गोडसे जी के नाम करने का नंबर तो लगाया जाए। अमृत वर्ष में तो हेडगेवार जी और सावरकर जी के साथ, गोडसे जी का भी नंबर आए। और हां! मोदी जी दिल से माफ नहीं भी करेंगे तो चलेगा, बस गोडसे जी को गांधी के बराबर का मौका दिया जाए।

इस व्यंग्य के लेखक वरिष्ठ पत्रकार और ‘लोक लहर’ के संपादक हैं। लेख में उनके निजी विचार हैं।

About Admin

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *